Header 300×250 Mobile

129 ऑक्सीजन सिलेंडर सहित धंधेबाज गिरफ्तार

5 हजार रुपये वाले ऑक्सीजन के वसूलते थे 30-35 हजार रुपये

- Sponsored -

246

- Sponsored -

- sponsored -

पश्चिम बंगाल से रीफिलिंग कर मंगाया जाता था ऑक्सीजन सिलेंडर

रोहतास से अभिषेक कुमार सुमन की रिपोर्ट

सासाराम (voice4bihar news)। कोरोना के बढ़ते संक्रमण काल के बीच गंभीर स्थिति में इलाज करा रहे मरीजों के लिए बेहद जरूरी ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी थमती नजर नहीं आ रही। एक तरफ गंभीर कोरोना मरीजों को आवश्यकता पड़ने के कारण आमतौर पर अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत झेलनी पड़ रही है। वहीं दूसरी ओर कुछ लोग पैसे के लालच में आपदा को अवसर बनाने का खेल कर रहे हैं। रोहतास में भारी मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ धंधेबाज की गिरफ्तारी के बाद इस गोरखधंधे का खुलासा हुआ है।

आपदा को अवसर बनाने का चल रहा था खेल

मेडिकल ऑक्सीजन की समस्या से एक तरफ जहां मरीज दम तोड़ रहे हैं वहीं दूसरी और सरकार को ऑक्सीजन की कमी को लेकर फजीहत झेलनी पड़ रही है। इस दौरान रोहतास में ऑक्सीजन कालाबाजारी की सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को डेहरी में प्रशासन ने छापेमारी कर ऑक्सीजन सिलिंडर की कालाबाजारी के गोरखधंधे को बेपर्द करते हुए 129 ऑक्सीजन सिलिंडर भी जब्त किया गया है। इस गोरखधंधे में संलिप्त विकास कुमार को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वह डेहरी के पश्चिमी मोहन बिगहा निवासी सुभाष कुमार का पुत्र बताया जा रहा है।

विज्ञापन

यह भी पढ़ें : 90 रुपये के “स्टासेफ” इंजेक्शन को “रेमडेसिविर” में बदलने वाला गिरोह बेनकाब

इसी दुकान से होती थी ऑक्सीजन  सिलेंडर की कालाबाजारी।
इसी दुकान से होती थी ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी।

30-35 हजार रुपये में बेचता था एक ऑक्सीजन सिलेंडर

ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी को लेकर मिली गुप्त सूचना के आधार पर रोहतास पुलिस कप्तान आशीष भारती के निर्देश पर गठित विशेष टीम ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर छापामारी को अंजाम दिया है। जिसके बाद या सफलता मिली है।
एसपी आशीष भारती के मुताबिक पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि डेहरी के स्टेशन रोड में विकास ट्रेडर्स नाम के प्रतिष्ठान में 30 से लेकर 35 हजार रुपये में एक ऑक्सीजन सिलिंडर बेचने का धंधा किया जा रहा है।

तत्काल पुलिस टीम गठित कर सूचना के सत्यापन के पश्चात छापेमारी की गई जिसमें मौके से धंधेबाज विकास कुमार को गिरफ्तार करने में टीम को सफलता मिली है। पूछताछ में पता चला कि पश्चिम बंगाल से रीफिलिंग कर ऑक्सीजन सिलिंडर मंगाया जाता है।

यह भी देखें : नकली रेमडेसिविर बनाने के लिए पटना में बनता था स्टीकर

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT