Header 300×250 Mobile

मस्जिद के इमाम के साथ मिलकर आशिक ने ही की तबस्सुम व उसके बच्चे की हत्या

कटिहार में दोहरे हत्याकांड का खुला राज, मस्जिद के इमाम को पुलिस ने धर दबोचा

- Sponsored -

465

- sponsored -

- Sponsored -

हत्यारा आशिक व उसके सहयोगी अब भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर

कटिहार (voice4bihar news)। पति की गैरमौजूदगी में आशिक को दिल दे बैठी तबस्सुम के साथ उसके मासूम बच्चे की हत्या का भेद आखिकार खुल ही गया। कटिहार जिले के वारसोई में एक हफ्ते पहले ब्लाइंड केस के रूप में सामने आए इस दोहरे हत्याकांड ने सनसनी फैला दी थी। चौंकाने वाला तथ्य यह है कि यह हत्यारा कोई और नहीं, बल्कि उसका आशिक मो. इखलाक ही है, जिसने मस्जिद के इमाम के साथ मिलकर अपनी प्रेमिका व उसके बच्चे की नृशंस हत्या कर दी।

कटिहार पुलिस ने हत्या का पर्दाफाश करते हुए इमाम को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि इखलाक व उसके साथी अभी तक फरार हैं। बारसोई थाना के सुधानी ओपी क्षेत्र के आलेपुर गांव में विगत 27 जुलाई को तबस्सुम व उसके बच्चे की हत्या कर शव को सड़क के इस पार और उस पार झाड़ी में फेंक दिया था। इस अपराध में इमाम अक्सर के अलावा इखलाक व उसके कुछ साथी भी शामिल थे।

मस्जिद में सचिव है हत्यारा आशिक, इमाम ने दिया साथ

विज्ञापन

हत्याकांड का उद्भेदन करते हुए बारसोई के एसडीपीओ प्रेमनाथ राम ने बताया कि तबस्सुम का आशिक मो. इकलाक उसके मायके पूर्णिया जिला के बायसी थाना के नीमटोला गोहाश गांव का रहने वाला है। वहां के मस्जिद में वह सचिव है। उसी मस्जिद में इमाम का काम करने वाले युवक मोहम्मद से उसके अच्छे संबंध थे। वह पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिला के दालकोला थाना के मालकोट शिकारपुर का रहने वाला है। इखलाक व मोहम्मद ने ही एक अन्य सहयोगी के साथ मिलकर मां-बेटे को मौत के घाट उतार दिया।

क्या है पूरा मामला

दरअसल तबस्सुम व इकलाख के बीच काफी दिनों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। इस बीच तबस्सुम का निकाह कहीं और हो गया। शादी के बाद भी तबस्सुम अक्सर अपने मायके में ही रहती थी , क्योंकि उसका पति बाहर कमाने गया था । पति के दूर रहने की वजह से इखलाक के साथ उसकी नजदीकियां बढ़ती गयी। फिर ऐसा वक्त आया कि तबस्सुम ने अपने पति के पास जाने से इनकार कर दिया और अपने आशिक इखलाक के साथ रहने की जिद करने लगी।

दूसरी ओर इखलाक को आशिकी पसंद थी, लेकिन उसे साथ रखने को तैयार नहीं था। तबस्सुम की जिद से आजिज आकर इखलाक ने खौफनाक साजिश रच दी। 27 जुलाई को अपने सहयोगी मस्जिद के इमाम अक्सर एवं एक अन्य सहयोगी के साथ मिलकर घटना को अंजाम दे दिया । इस संबंध में बारसोई थाना के सुधनी ओपी कांड संख्या 137/2021 केस दर्ज किया गया।

पुलिस ने तफ्सील से जांच शुरू की तो हत्याकांड के पीछे प्रेम-प्रसंग का मामला सामने आया। फिर शक की सूई मस्जिद के मस्जिद की तरफ गयी। पुलिस ने इमाम पर दबाव बनाया तो उसने जुर्म कबूल कर लिया। साथ ही हत्या में शामिल सभी लोगों के नाम भी बता दिये। डीएसी ने बताया कि घटना वाले दिन ही उन्होंने सुधानी ओपी प्रभारी सुबोध कुमार व तेलता ओपी अध्यक्ष विजय कुमार के नेतृत्व में एक पुलिस टीम गठित कर तहकीकात शुरू की थी। इमाम अक्सर की गिरफ्तारी हो चुकी है, जबकि अन्य अभियुक्त अभी फरार हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT