Header 300×250 Mobile

सरयू राय ने क्यों की खुद के खिलाफ CBI जांच की मांग

विधायक सरयू राय ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को लिखी चिट्‌ठी

- Sponsored -

454

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। झारखंड विधानसभा के निर्दलीय विधायक सरयू राय ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को चिट्‌ठी लिखकर अपने खिलाफ CBI जांच कराने की मांग की है। राय ने यह चिट्‌टी जमशेदपुर के भाजपा नेता अभय सिंह और देवेंद्र सिंह के आरोप लगाने के बाद की है। श्री राय ने केंदीय गृह मंत्री को लिखी चिट्‌ठी में कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के नवदीकी लोगों द्वारा मेरे ऊपर तथाकथित आरोप लगाये जा रहे हैं। इन आरोपों की CBI जांच करायी जाये।

भाजपा नेता अभय सिंह ने लगाया अनुचित लाभ पहुंचाने का आरोप

यहां बता दें कि 18.03.2021 को उपायुक्त कार्यालय , जमशेदपुर के सामने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए भाजपा नेता अभय सिंह ने कहा था कि सरयू राय ने 2014 से 19 तक झारखंड में मंत्री रहने के खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता की ओर से प्रिंटर्स को बिना टेण्डर के काम देकर उन्हें अनुचित लाभ पहुंचाया है। हालांकि श्री राय का कहना है कि  झारखंड प्रिंटर्स ने प्रासंगिक कार्य निविदा के आधार पर खाद्य , सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता विभाग के निदेशालय से प्राप्त किया था। इस निविदा में रांची के कई बड़े प्रिंटर्स ने भी हिस्सा लिया था।

देवेंद्र सिंह ने भी की है CBI जांच कराने की मांग

इसके अलावा 24.03.2021 को भाजपा नेता देवेन्द्र सिंह ने सरयू राय पर आरोप लगाया कि उन्होंने युगांतर भारती  नामक स्वयंसेवी संस्था को मंत्री के रूप में अपने विभाग से करोड़ों रुपये का लाभ पहुंचाया श्री सिंह ने अपने इस आरोप की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। श्री राय ने श्री सिंह के कथन को शतप्रतिशत असत्य करार देते हुए अपने खिलाफ लगे दोनों आरोपों की जांच सीबीआई से कराने की मांग केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से की है।

विज्ञापन

रघुवर रास और सरयू राय का है पुराना बैर

यहां बता दें कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, उन्हीं के मंत्रिमंडल के सदस्य रहे सरयू राय और आरोप लगाने वाले अभय सिंह व देवेंद्र सिंह ये चारों लोग कभी भाजपा में हुआ करते थे। 2004 में जबसे सरयू राय जमशेदपुर में भाजपा की राजनीति में सक्रिय हुए हैं तब से रघुवर दास से उनके संबंध मधुर नहीं रहे हैं। 2019 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने जब श्री दास के कहने पर श्री राय का टिकट काट दिया तब राय ने उन्हीं के खिलाफ जमशेदपुर पूर्वी से निर्दलीय चुनाव लड़ने का एलान कर दिया।

इस चुनाव मे राय ने मुख्यमंत्री को हराकर नया इतिहास रच दिया। जमशेदपुर पश्चिम से सरयू राय का टिकट कर भाजपा ने देवेंद्र सिंह को थमाया और सिंह भी चुनाव हार गये। इस तरह से भाजपा के हाथ से दोनों सीट निकल गयी।

बाबूलाल मरांडी के खास हैं अभय सिंह

अभय सिंह झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के साथ भाजपा से बाहर हुए और फिर 2019 के विधानसभा चुनाव में हुई इुर्गति के बाद भाजपा ने उन्हें मरांडी के साथ पार्टी में वापस मिला लिया। अभय सिंह 2019 के पहले तक बाबू लाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास पार्टी के टिकट पर जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लड़ते रहे हैं। इस बार रघुवर दास के हारने के बाद अभय सिंह को उम्मीद है कि उन्हें जमशेदपुर पूर्वी से भाजपा का टिकट मिल जायेगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored