Header 300×250 Mobile

प्राथमिक स्कूलों के बच्चे अब E-Learning से पढ़ेंगे

30 मई को शिक्षकों व पदाधिकारियों के लिए प्राथमिक शिक्षा निदेशक आयोजित करेंगे यू ट्यूब सेशन

- Sponsored -

518

- Sponsored -

- sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। कोरोना काल में ठप शिक्षण व्यवस्था को फिर से शुरू करने के लिए E-Learning की कवायद प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने शुरू की है। हालांकि फिलहाल पठन-पाठन फिजिकल नहीं हो कर ऑनलाइन शुरू करने की कवायद की जा रही है। इसके लिए प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने 30 मई को यू ट्यूब सेशन आयोजित किया है। इस सेशन में सभी DEO, DPO, BEO, BRP, CRCC, टोला सेवक, जनप्रतिनिधि, प्रधानाध्यापक, प्रधानाध्यापिका एवं शिक्षकों को शामिल होने के लिए कहा गया है।

प्राथमिक शिक्षा निदेशक डॉ. रंजीत कुमार सिंह ने बताया है कि 30 मई, 2021 को 1 बजे अपराह्न से 2 बजे अपराह्न तक यू-ट्यूब सेशन आयोजित किया गया है। इसमें खुद निदेशक, प्राथमिक शिक्षा कोरोनाकाल में E-Learning को कैसे जारी रखें एवं इस संबंध में प्राथमिक शिक्षा विभाग द्वारा की जा रही पहल की जानकारी देंगे। इस सेशन से जुड़ने के लिए  https://youtu.be/KvHeP7oC0EE इस लिंक पर जुड़ना होगा। प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने कहा है कि सभी DEO, DPO, BEO और BRP बैठक की जानकारी सभी के साथ साझा करें और सुनिश्चित करें कि 100 फीसद लोग उक्त यू -ट्यूब सेशन में जुड़ें।

विज्ञापन

यहां बता दें कि कोरोना काल में स्कूली शिक्षा बुरी तरह प्रभावित हो रही है। मार्च 2020 से स्कूल प्राय: बंद पड़े हैं। प्राथमिक और मध्य विद्यालयों के बच्चे बिना परीक्षा के अगली कक्षा में प्रोन्नत कर दिये जा रहे हैं पर इसका उनके भविष्य पर बुरा असर पड़ रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक फिलहाल कोरोना से मुक्ति मिलने की उम्मीद भी कम है। तीसरी लहर बच्चों को अधिक प्रभावित करेगी ऐसे में निकट भविष्य में स्कूल खुलने की उम्मीद भी नहीं के बराबर है। इन परिस्थितियों में E-learning बच्चों की शिक्षा का बहुत बड़ा हथियार हो सकता है।

हालांकि विभाग को यह भी ध्यान रखना होगा कि बिहार के सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले अधिकतर बच्चे गरीब तबके से आते हैं। E-learning के लिए स्मार्ट फोन और इंटरनेट का होना जरूरी है। स्मार्ट फोन और इंटरनेट होने के बावजूद बिहार के कई ऐसे ग्रामीण इलाके हैं जहां नेटवर्क की समस्या रहती है। E-learning को सफल बनाने के लिए विभाग को इन सभी समस्याओं पर भी गंभीरता से विचार करना होगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT