Header 300×250 Mobile

निगरानी ने 80 हजार रुपये घूस लेते बीईओ को पकड़ा

वित्तीय अनियमितता के आरोप से मुक्त करने के नाम पर प्रधानाध्यापक से मांगे थे रुपये

- Sponsored -

655

- sponsored -

- Sponsored -

आरा (voice4bihar desk)। पीरो के घूसखोर बीईओ (प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी) को निगरानी की टीम ने गिरफ्तार किया है। बीईओ उस वक्त निगरानी के हत्थे चढ़ा जब वह मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक से अपने कार्यालय के बाहर 80 हजार रुपये घूस ले रहा था। रंगे हाथ गिरफ्तार घूसखोर बीईओ को गिरफ्तारी के बाद निगरानी की टीम पटना ले गयी है।

प्रखंड के चरपोखरी थाना क्षेत्र के नगरी गांव निवासी और नारायणपुर मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक अजय कुमार ने बताया कि गत शनिवार 12 को जून को बीईओ ने जांच के नाम पर स्कूल रजिस्टर मंगाया था। जांच में वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाकर पहले बीईओ ने प्रधानाध्यापक को शॉकोज किया। इसके बाद उसने वित्तीय अनियमितता के आरोप से मुक्त करने के नाम पर 80 हजार रुपये घूस की रकम की मांग की। प्रधानाध्यापक अजय कुमार ने इसकी शिकायत 17 जून को निगरानी से की।

इसके बाद निगरानी की टीम ने जाल बिछाया और 21 जून की सुबह भोजपुर जिले के पीरो के प्रखंड कार्यालय के बाहर से बीईओ को 80 हजार घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद निगरानी की टीम ने उसके कार्यालय कक्ष की तलाशी ली जहां से कुछ कागजात निगरानी की टीम को हाथ लगे हैं। टीम उसे पूछताछ और आगे की कार्रवाई के लिए पटना ले गयी है।

विज्ञापन

निगरानी के धावा दल के प्रभारी सह निगरानी डीएसपी अरुण पासवान ने बताया कि चरपोखरी के नगरी गांव निवासी शिक्षक अजय कुमार ने 17 जून को निगरानी से इस बारे में शिकायत की थी। शिकायत में बताया गया था कि पीरो प्रखंड के बीईओ वित्तीय अनियमिकता के आरोप से मुक्त करने के नाम पर उनसे 80 हजार रुपये मांग रहे हैं। शिकायत के सत्यापन के बाद आज रंगे हाथ पीरो प्रखंड कार्यालय के बाहर बीईओ को 80 हजार रुपये घूस की रकम के साथ गिरफ्तार कर लिया गया।

निगरानी के धावा दल में प्रभारी डीएसपी अरुण पासवान के अलावा डीएसपी पवन कुमार, डीएसपी शिव कुमार साह, एसआई आशीष कुमार, एसआई दिवाकर कुमार दिनकर, हवलदार महेश मंडल एवं सिपाही मोहन पांडेय शामिल थे।

बीईओ की घूसखोरी से त्रस्त हैं प्रखंड के शिक्षक-शिक्षिका

प्रधानाध्यापक अजय कुमार ने बताया कि बीईओ के घूसखोरी के रवैये से प्रखंड के सभी शिक्षक एवं शिक्षिकाएं त्रस्त हैं। वह आये दिन किसी न किसी स्कूल में पहुंचता था और शिक्षकों पर तरह-तरह के आरोप लगाकर उन्हें परेशान करता था। नौकरी जाने के डर से शिक्षक उसकी हर नाजायज मांग पूरी करते थे। आज निगरानी के धावा दल द्वारा घूसखोर अफसर की गिरफ्तारी की खबर से शिक्षकों में खुशी है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored