Header 300×250 Mobile

देखिये विश्वविद्यालय पंचांग में कब-कब है शुभ मुहूर्त

2021 से जुलाई 2022 तक विवाह के हैं कुल 53 मुहूर्त

- Sponsored -

19,703

- Sponsored -

- sponsored -

दरभंगा (voice4bihar desk)। कोरोना महामारी के चलते जिनकी शादी में बाधा आयी है वे नवंबर माह में शुरू होने वाले लगन के नये सीजन में अपनी डेट फिक्स कर सकते हैं। महामारी के इस दौर में विभिन्न प्रशासनिक बाधाओं के चलते कई लोगों ने शुभ लगन की तिथि बढ़ा दी है। मिथिला विश्वविद्यालय का नया पंचांग उनकी राह आसान करेगा। 2021 के नवंबर से 2022 के जुलाई तक मिथिला में 53 दिन शुभ विवाह के लिए निर्धारित हुए हैं।

पहली बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई पंडित सभा

कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय ज्योतिष शोध केंद्र बलभद्रपुर तथा अखिल भारतीय मैथिल महासभा दरभंगा के संयुक्त तत्वाधान में संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. शशि नाथ झा की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये वर्ष 2021-22 की पंडित सभा का आयोजन किया गया। सभा में मिथिला से प्रकाशित होने वाले विश्वविद्यालय पंचांग के पंचांगकार पंडित रामचंद्र झा, पंडित वरुण कुमार झा और विद्यापति पंचांगकार देवकी नंदन झा सहित वैदेही एवं अपराजिता पंचांगकार, मिथिला पंचांगकार, महावीर पंचांगकार, गंगा पुलकित पंचांगकार ने अपने-अपने निवास स्थान से भाग लिया।

मार्च 2022 में नहीं है विवाह का मुहूर्त

पंचांगकारों ने विभिन्न शुभ मुहूर्तों की तिथि निर्धारित की। इनमें विवाह के लिए वर्ष 2021 के नवंबर में 21, 22 और 29 तथा दिसंबर में 1, 2, 5, 6, 8, 9 और 13 तारीख निर्धारित हुई है। 2022 के जनवरी में 23, 24 और 27, फरवरी में 2, 6, 7, 10 और 11 तारीख निर्धारित हुई है। मार्च में विवाह का मुहूर्त नहीं है। अप्रैल में 17, 20, 21, 22, 24, 25, 27 और 28 मई में 2, 9, 11, 12, 13, 18, 20, 22, 25, 26, 27 और 30, जून में 1, 5, 6, 9, 10, 13, 19, 22, 23, 24, 26 तथा जुलाई में 3, 4, 6 और 8 तारीख को विवाह के मुहूर्त निर्धारित किए गये हैं।

इसके अलावा पंचांगकारों ने द्विरागमन के लिए नवंबर 2021 में 19, 21, 22 और 24 तथा दिसंबर में 5, 8, 9, 10 और 13 को शुभ माना है। 2022 में मार्च में 2, 3, 4, 6, 9, 10 और 13, अप्रैल में 17, 20, 21, मई में 2, 6 ,8, 11, 12 और 13 तारीख निर्धारित किये गये हैं।

विज्ञापन

मुंडन के लिए 2021 के नवंबर में 21 और 24, दिसंबर में 8 और 10, 2022 के फरवरी में 2, 3, 7, 10, 11 और 21, मार्च में 4 और 9, अप्रैल में 18 और 20, मई में 6, 11, 12, 13, 18 और 20, जून में 1, 2, 9, 10, 17 और जुलाई में 1, 6 व 8 तारीख को शुभ मुहूर्त निर्धारित किए गए हैं।

उपनयन के लिए 2021 के नवंबर दिसंबर में कोई भी दिन शुभ नहीं बताया गया है। उपनयन के लिए 2022 के फरवरी में 3 व 11, अप्रैल में 6 व 11, मई में 5, 11 व 12 जून में 2, 9 व 10 तथा जुलाई में 4 अर्थात कुल 11 दिन निर्धारित किए गए है।

गृहारंभ के लिए 26 जुलाई 2021 को शुभ दिन बताया गया है। साथ ही 2021 के अक्टूबर में 20 व 25, नवंबर में 15, 20, 22 व 24 तारीख को ही शुभ बताया गया है। 2022 के अप्रैल में 16 व 18, मई में 11, 12 व 13, जून में 17 व 18 तथा जुलाई में 6 अर्थात केवल 15 दिन निर्धारित हुए हैं।

गृह प्रवेश के लिए अगस्त 2021 में 13 व 14, नवंबर 2021 में 10, 11, 13 व 15, दिसंबर में 9, 10 व 13, 2022 के अप्रैल में 16, मई में 6, 7, 11, 12 व 13 और जुलाई में 6, 8, 9, 11 अर्थात कुल 19 दिन शुभ माना गया है।

2022 मे नहीं लगेगा किसी तरह का ग्रहण 

इस बार 12 फरवरी से 16 अप्रैल तक शहनाई नहीं बजेगी। साथ ही वर्ष 2022 मे किसी तरह का ग्रहण नहीं लगेगा। वर्ष 2021 में रक्षाबंधन 22 अगस्त, कृष्णाष्टमी 30 अगस्त, शारदीय नवरात्र का शुभारंभ 7 अक्टूबर, विजयादशमी 15 अक्टूबर, कोजगरा 19 अक्टूबर, दीपावली 4 नवंबर, संध्याकालीन छठ 10 नवंबर प्रातःकालीन 11 नवंबर, 2022 में सरस्वती पूजा 5 फरवरी, होली 19 मार्च, रामनवमी 10 अप्रैल, सतुवाइन 14 अप्रैल, अक्षय तृतीया 3 मई, बट सावित्री 30 मई, गंगा दशहरा 9 जून एवं गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई को निर्धारित किया गया है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT