Header 300×250 Mobile

दक्षिण बिहार में ज्यादा तबाही मचाएगा यास तूफान

26 से 30 मई तक बिहार के लगभग सभी जिलों में होगी मध्यम से भारी वर्षा

- Sponsored -

590

- sponsored -

- Sponsored -

चक्रवाती तूफान यास को लेकर मौसम विभाग ने बिहार के लिए जारी किया पूर्वानुमान

पटना (voice4bihar desk)। मौसम विज्ञान केंद्र ने चक्रवाती तूफान के दौरान बिहार में मध्यम से भारी बारिश होने और इस दौरान 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की चेतावनी जारी की है। विभाग का कहना है कि बिहार में यास का असर 26 मई से 30 मई तक अधिक रहेगा। दक्षिण बिहार में इसका ज्यादा असर रहेगा।

हालांकि बंगाल की खाड़ी में उठे इस तूफान का व्यापक असर बिहार के सीमाई क्षेत्र में में मंगलवार से ही देखा जा रहा है। किशनगंज समेत आसपास के इलाके में मंगलवार को दिन भर तेज बारिश हुई। तूफान के चलते बारिश मंगलवार को बिहार के मुंगेर और झारखंड के बोकारो, हजारीबाग तक हुई। राजधानी पटना और इसके आसपास दिन भर बादल छाये रहे और करीब 12 किलोमीटर की रफ्तार से हवा बहती रही।

विज्ञापन

खगड़िया में आज सुबह से ही हबा के साथ तेज बारिश हो रही है। बारिश होने से आम के फसल को जहां फायदा होने कि संभावना है वहीं जिन किसानों के खेत में पका हुआ मकई का फसल है, उसके नुकसान की आशंका है। हल्की  तेज हवा के साथ बारिश होगी तो आम के फसल का भी नुकसान होने की आशंका है।

मंगलवार की शाम मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विवेक सिन्हा ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि प्रचंड चक्रवाती तूफान यास वर्तमान में पश्चिम-मध्य और उससे सटे पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी पर बना हुआ है। यह लगभग 16 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर और उत्तर पश्चिम की दिशा में बढ़ रहा है। इसके बुधवार यानि 26 मई तक और प्रचंड होने तथा उड़ीसा एवं पश्चिम बंगाल के बीच तट को अति प्रचंड चक्रवाती तूफान के रूप मे पार करने की आशंका है।

30 से 40 किलामीटर की रफ्तार से चलेगी हवा

यह अति प्रचंड चक्रवाती तूफान यास तट को पार करने के बाद उत्तर और उत्तर-पश्चिम दिशा में उड़ीसा के आंतरिक क्षेत्र झारखंड से गुजरता हुआ बिहार को प्रभावित करेगा। झारखंड पहुंचते-पहुंचते अति भीषण चक्रवाती तूफान यास अवदाब (Depression) में बदल जायगा। इससे हवा की रफ़्तार कम होकर 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा हो जायगी। 26 मई से राज्य के अधिकांश भागो में इस चक्रवात का प्रभाव मेघ आच्छादित आकाश, आकाशीय बिजली, तेज हवा मध्यम से भारी वर्षा के रूप में दिखाई देगा। यह स्थिति 30 मई तक बनी रहेगी।

चूंकि चक्रवात झारखंड तथा बिहार के आसपास से दक्षिण पूर्व से पश्चिम उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा होगा, इसलिए इसका प्रभाव बिहार के दक्षिणी हिस्से में अधिक होगा। इस मौसम प्रणाली के प्रभाव से 26-30 मई तक राज्य के अधिकांश जिलों में हल्की से मध्यम और कुछ स्थानों भारी बारिश होगी। राज्य के नागरिकों को सावधानी बरतने की सलाह दी गयी है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored