Header 300×250 Mobile

टॉपर्स की कहानी टॉपर्स की जुबानी

पिता ठेले पर खाने-पीने का सामान बेचते हैं बेटी साइंस की स्टेट टॉपर

- Sponsored -

486

- Sponsored -

- sponsored -

पिता ठेले पर खाने-पीने का सामान बेचते हैं बेटी साइंस की स्टेट टॉपर

पटना (voice4bihar desk)। इंटरमीडिएट का रिजल्ट बिहार बोर्ड ने जारी कर दिया है। आइए जानते हैं टापर्स की कहानी टॉपर्स की जुबानी।

सोनाली कुमारी

बिहारशरीफ के परमेश्वरी देवी बालिका उच्च विद्यालय की छात्रा सोनाली कुमारी ने 471 अंक लाकर साइंस में पूरे बिहार में टॉप किया है। सोनाली के पिता चुन्नीलाल ने अपनी गरीबी को बेटी की पढ़ाई में बाधक नहीं बनने दिया। चुन्नीलाल ठेले पर घूम-घूमकर शहर में खाने-पीने का सामान बेचते हैं। बिहारशरीफ के चमनगली में गंगा हलवाई के मकान में पूरा परिवार किराये में रहता है। उनकी स्टेट टॉपर बेटी सोनाली आने वाले समय में यूपीएससी टॉपर बनना चाहती है।

स्टेट टाॅपर सुगंधा बनी ओबरा की लाडली 

सुगंधा

साइंस की छात्रा सोनाली के साथ 471 अंक लाकर पूरे बिहार में इंटरमीडिएट परीक्षा में संयुक्त रूप से टॉपर बनी कॉमर्स की छात्रा सुगंधा पूरे ओबरा (औरंगाबाद) की लाडली बन गयी है। ओबरा निवासी सुनील गुप्ता की बेटी सुगंधा ने होली के ठीक पहले न केवल अपने पूरिवार बल्कि गाव जवार को भी खुश होने का मौका दिया है। छात्र संगठन अभाविप ने सुगंघा को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

प्रियांशु ने नूरसराय का नाम किया रोशन

बिहारशरीफ के ही नूरसराय के अशोक प्रसाद की छोटी पुत्री प्रियांशु राज ने इंटर साइंस में राज्य में पांचवां स्थान हासिल किया है। नूरसराय महाविद्यालय की छात्रा को 466 अंक मिले हैं। मैट्रिक की परीक्षा में उसे 427 अंक मिले थे। नूरसराय महाविद्यालय के प्राचार्य सत्येंद्र कुमार सिंह ने कहा कि प्रियांशु ने कॉलेज के साथ ही नूरसराय का भी नाम रोशन किया है। प्रियांशु नूरसराय के दयानगर निवासी अशोक प्रसाद की छोटी बेटी है।

मधु को नहीं थी टॉपर बनने की उम्मीद

विज्ञापन

इंटर कला की टॉपर मधु भारती या उसके माता-पिता को इस बात का तनिक भी भरोसा नहीं था कि वह टॉप कर जायेगी। खगड़िया के मानसी प्रखंड के चकहुसैनी राजाजान गांव की बेटी की सफलता से पूरे गांव में खुशी का माहौल है । मधु भारती के पिता विश्वभर प्रसाद और मां रिभा कुमारी कहतीं हैं कि कोरोना काल में छात्रों की पढ़ाई नहीं के बराबर हुई लेकिन मघु ने हिम्मत नहीं हारी । वह लगातार मोबाइल समेत अन्य माध्यमों से पढ़ाई करती रही । मधु भारती ने मैट्रिक की परीक्षा जनता हाईस्कूल मानसी से वर्ष 2019 में 447 अंक लाकर पास की थी । इंटरमीडिएट की परीक्षा आर लाल कॉलेज से दी जिसमें 463 अंक लाकर बिहार टॉपर हुई । मधु भारती के पिता विश्वंभर प्रसाद बाबू जी स्मारक स्कूल में शिक्षक हैं।

यूपीएससी की परीक्षा पास कर अफसर बनना चाहता है चांद

किशनगंज इंटर हाईस्कूल के छात्र मो. चांद ने इंटरमीडिएट कॉमर्स में 470 अंक लाकर पूरे प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल किया है । शहर के नवाबगंज निवासी पेशे से मिल मिस्त्री वसी अहमद के बेटे मो. चांद ने कड़ी मेहनत और परिश्रम से यह मुकाम हासिल किया है। मो. चांद ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने माता-पिता को देते हुए बताया कि वह आगे यूपीएससी की परीक्षा पास कर आईएएस या आईपीएस बनकर देश की सेवा करना चाहता है। चांद ने बताया कि उसका जीवन काफी अभाव में बीत रहा है। मां-बाप ने भूखे रखकर हमें खाना खिलाया और पढ़ाया । मो. चांद के पिता वसी अहमद बेटे को उपलब्धि पर गर्व से फूले नहीं समा रहे हैं। उनकी इच्छा है कि बेटा आगे जाकर यूपीएससी पास कर अच्छी नौकरी करे और उनका जीवन खुशी से बीते । मो. चांद की मां नूरी बेगम ने बेटे की इस उपलब्धि का श्रेय उसकी कड़ी मेहनत को देते हुए बताया कि वह परीक्षा के दौरन रात-रात भर जागकर पढ़ाई करता है। इस वजह से हमेशा क्लास में अव्वल आता है। अब बस एक हही तमन्ना है कि आगे खूव पढ़े और जो लक्ष्य उसने खुद के लिए सोचा है उसे पूरा करे।

टीएनबी कॉलेज की नंदनी को मिला बिहार में दूसरा स्थान

भागलपुर के टीएनबी कॉलेज की छात्रा नंदनी भरती ने बीएसईबी के इंटरमीडिएट कला की परीक्षा में 461 अंक लाकर बिहार में दूसरा स्थान प्राप्त किया है । नंदनी के पिता शंकर प्रसाद गुप्ता चाय पत्ती बेचते हैं  जबकि मां उषा गुप्ता टयूशन पढ़ातीं हैं। नंदनी भागलपुर के लहरी टोला में रहती है । वर्तमान में घर की आर्थिक हालात ठीक नहीं है। अपनी लगन और मेहनत के बल पर नंदिनी ने अपने माता – पिता का सिर फख्र से ऊंचा कर दिया है । रिजल्ट आते ही घर में लोग खुशी से झूम उठे। माता – पिता की आंख खुशी से छलक गये। आसपास के लोगों ने नंदनी को बधाई दी । वहीं देर शाम लहरी टोला में सम्मान समारोह आयोजित कर उसे सम्मानित भी किया गया ।

शाकिब ने साबित किया प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती

मोतिहारी के रक्सौला भेलाही के मो. शाकिब ने साबित कर दिया कि प्रतिभा किसी की मोरवाज नहीं होती। शहर के मो. फिरोज आलम के पुत्र मो. शाकिब ने राज्य स्तर पर टॉप 5 में तीसरा स्थान प्राप्त किया है । विज्ञान संकाय में मो. शाकिब ने 469 अंक प्राप्त किया है ।

ऑटो रिक्शा चालक की बेटी ने लहराया परचम

ऑटो चालक की बेटी कल्पना कुमारी ने विज्ञान संकाय में पूरे सूबे में टॉप -5 में जगह बनाकर अपना लोहा मनवा लिया है। कल्पना ने कुल 500 में 468 अंक पाकर चौथा स्थान प्राप्त किया है । कल्पना के पिता रक्सौल निवासी अनिल पंडित और माता कुंती देवी ने कहा कि आज हमारी बेटी ने हमारा सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है । उन्होंने कहा कि बेटी ने हमारी मजबूरियों को समझा और अभाव में भी बेहतर प्रदर्शन कर हमें खुशी महसूस कराया । कल्पना के पिता जीविकोपार्जन के लिए बिहार के रक्सौल से नेपाल के बीरगंज तक ऑटो चलाते हैं। कल्पना ने मैट्रिक की परीक्षा में 80 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे । कल्पना दो बहन और एक भाई है । भाई एयरफोर्स की तैयारी कर रहा है जबकि कल्पना की एक और बहन ने आईएससी को परीक्षा दी है । कल्पना ने बताया कि उसके साइंस पढ़ने की चाहत देखकर पिता ने उसे मोतिहारी भेजा। परंतु लॉकडाउन लग जाने के चलते उसकी पढ़ाई बाधित होती दिखी। ऑनलाइन पढ़ाई से ही काफी मदद मिली। फिर स्थिति कुछ सामान्य होने पर ऑफलाइन भी पढ़ाई शुरू हुई। कल्पना का स्थान परे सूबे में चौथा है । सिविल सर्विसेज करने की चाह रखने वाली कल्पना ने बताया कि उसके साथ उसके पिता के भी हौसले काफी बुलंद हैं। कल्पना आगे की पढाई दिल्ली में रहकर करना चाहती है । ताकि एक तरफ वह स्नातक कर सके साथ ही उसकी इच्छा है कि वह सिविल सर्विसेज परीक्षा की तैयारी कर यूपीएससी एक्जाम को क्रैक कर आईएएस या आएपीएस अफसर बने ।

टॉप थ्री में स्थान पाकर बुलंद हैं अभिषेक के हौसले

गोपालगज के अभिषेक ने आर्ट की परीक्षा में टॉप थ्री में स्थान प्राप्त किया है । परीक्षाफल आते ही परिवार ही नहीं गांव में भी खुशी का माहौल विराजमान हो गया । अभिषेक की टॉपर बनने की तमन्ना को शुरू से ही है । इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उसने स्कूल में भी प्रयास किया लेकिन उस समय सफलता नहीं मिली लेकिन इंटर कला में टॉप थ्री में स्थान पाकर हौसले बुलंद हैं। उसने यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस बनने का लक्ष्य निर्धारित किया है। अभिषके का कहना है कि गोपालगंज में यह लक्ष्य प्राप्त नहीं होगा। इसके लिए वह स्नातक की पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला लेकर करेगा और वहीं से यूपएणसी की परीक्षा में भाग लेकर आईएएस बनने की तमन्ना पूरी करेगा। अभिषेक कुमार के पिता अवध किशोर साह अपना घर बार छोड़ कर अपने बच्चों को पढ़ाने के उदेश्य से पजाब में रोजगार करते हैं। मां वीणा देवी घर पर रहकर अपने बड़े पुत्र अमित कुमार, पुत्री नेहा कुमारी और अभिषेक के जीवन को संवारने का प्रयास कर रही है । अभिषेक का बड़ा भाई अमित कुमार साह ने स्नातक की डिग्री हासिल की है जबकि उसकी बहन नेहा स्नातक द्वितीय वर्ष में पढ़ाई कर रही है। यह परिवार गोपालगंज जिला मुख्यालय से महज चार किलोणटर दूर नगर थाने के अमवा नकछेद गांव में निवास करता है । अभिषेक कमार अपने गांव से प्रतिदिन आठ 12 किलोमीटर की दूरी तय कर तुरकहां में स्थित एमएम मेमोरियल उर्दू इंटर कॉलेज से इंटर को पढ़ाई कर विद्यालय और गांव का नाम रोशन किया है ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored