Header 300×250 Mobile

उत्कर्ष बैंक के रुपये लूटने में शामिल था बैंक ऑफ इंडिया का चपरासी

बैंक के चपरासी समेत तीन दबोचे गये, 65 हजार रुपये बरामद

- Sponsored -

356

- Sponsored -

- sponsored -

छपरा (voice4bihar desk)। एकमा के ई-कार्ट कार्यालय में लूट में शामिल उमेश महतो दिघवारा के उत्कर्ष बैंक के कर्मी से रुपये लूटने में भी शामिल था। उसकी गिरफ्तार के बाद खुलासा हुआ कि उत्कर्ष बैंक के रुपये लूटने में उसकी मदद बैंक ऑफ इंडिया के चपरासी ने की थी। पुलिस ने बैंक के चपरासी समेत तीन लोगों को इस मामले में गिरफ्तार करते हुए लूट के 65 हजार रुपये बरामद किये हैं।

10 मई को दिघवारा में उत्कर्ष स्मॉल फाइनांस बैंक के कैशियर राहुल कुमार को गोली मारकर अपराधियों ने 9.49 लाख रुपये लूट लिये थे। इस वारदात में अपराधियों की गोली से एक राहगीर भी घायल हो गया था। इस मामले की जांच में जुटी दिघवारा पुलिस की राह एकमा में ई-कार्ट कार्यालय में हुई लूट के मामले में उमेश महतो की गिरफ्तार से आसान हो गयी। उमेश महतो से जब सारण पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो उत्कर्ष बैंक के कैशियर से हुई लूट का भी उसने खुलासा कर दिया। सबसे सनसनीखेज खुलासा उसने किया कि इस लूट में बैंक ऑफ इंडिया का चपरासी रमेश पासवान शामिल था।

विज्ञापन

घटना के वक्त उत्कर्ष बैंक का कैशियर 9.49 लाख रुपये लेकर जमा करने बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में ही जा रहा था। उमेश महतो से मिले सुराग के आधार पर पुलिस ने दिघवारा के मिर्जापुर निवासी कृष्णा राम को गिरफ्तार किया। बैंक ऑफ इंडिया के चपरासी रमेश पासवान ने कृष्णा राम को ही लूटपाट के लिए सेट किया था। रमेश पासवान पूर्व में भी आपराधिक मामलों में शामिल रहा है। रमेश पासवान ने कृष्णा राम को बताया था कि प्रतिदिन उत्कर्ष बैंक के रुपये उसके बैंक में 10.30 से दो बजे के बीच में लेकर बैंक का स्टाफ आता है।

कृष्णा राम व उमेश महतो ने इस लूट की वारदात को अंजाम देने के लिए बैंक के चपरासी रमेश पासवान के साथ साजिश रची। इसमें परसा के कुछ अपराधियों को भी शामिल किया गया। उन दोनों ने परसा के अपराधियों का बैंक ऑफ इंडिया के चपरासी रमेश पासवान से परिचय करा दिया। प्लानिंग के मुताबिक 10 मई को लूट की वारदात को अंजाम दिया गया। उमेश महतो की निशानदेही पर इस लूट में मिले हिस्से में से 30 हजार रूपये, कृष्णा राम के हिस्से के 25 हजार रुपयेपये व बैंक के चपरासी रमेश पासवान की निशानदेही पर दस हजार रुपये व बैग जिसमें लूट के रुपये ले जाये गये थे, बरामद किये गये।

पुलिस इस घटना में शामिल अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी व लूट की शेष राशि की बरामदगी के लिए ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। पुलिस का कहना है कि लूटे गये रुपये का बड़ा हिस्सा फरार अपराधियों के पास है। हालांकि पुलिस ने उस बैग को चपरासी रमेश पासवान के पास से बरामद किया है जिसमें रुपये लेकर कैशियर राहुल कुमार बैंक जाने के लिए निकला था।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored