Header 300×250 Mobile

घोसवरी की एक तस्वीर ने सरकार और पटना जिला प्रशासन की करा दी फजीहत

डेढ़ फीट पानी को पारकर टीकाकरण कंद्र पर पहुंचने वाले स्वास्थ्य और जीविका कर्मियों का बढ़ा मान

- Sponsored -

649

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। यह तस्वीर पटना जिले के सबसे पिछड़े इलाके में से एक की है। घोसवरी प्रखंड के मोहनपुर ग्राम स्थित मध्य विद्यालय टीकाकरण केंद्र पर इन टीकाकर्मियों की तैनाती की गयी थी। इस टीम में एएनएम ममता कुमारी और नीतू कुमारी के अलावा जीविका दीदी आरती कुमारी, बंटी कुमारी सहित उनकी टीम के सौरभ कुमार और महेश कुमार भी थे।

सोमवार की शाम पटना जिला प्रशासन के ट्वीटर हैंडल पर इस तस्वीर को पोस्ट किया गया और बताया गया कि जीविका दीदी तथा एएनएम की टीम ने डेढ़ फीट पानी को पारकर कोरोना से सुरक्षा हेतु टीकाकरण किया। जिलाधिकारी ने कर्मियों की कर्तव्यपरायणता एवं टीम भावना की सराहना की। साथ ही कहा कि उनकी हौसला अफजाई के लिए जिलाधिकारी प्रशस्ति पत्र देकर टीम के सभी सदस्यों को सम्मानित करेंगे।

ट्वीटर पर इस तस्वीर और जिलाधिकारी की प्रशंसा के बोल आते ही कई ट्वीटर यूजर ने अपनी प्रतिक्रिया दी। टीकाकरण टीम में शामिल सभी सदस्यों की तो सबने तारीफ की पर वहां सड़क नहीं होने के लिए लोगों ने जिला प्रशासन और सरकार की जमकर आलोचना की।

विज्ञापन

सूरज कमार नामक ट्वीटर यूजर ने लिखा मान्यवर, आप जिस तस्वीर को साझा कर अपना पीठ खुद थपथपा रहे हैं दरअसल वह सरकार की नाकामियां है। अगर सड़क निर्माण विभाग अपना काम सही तरीके से किया होता तो शायद यह तस्वीर कुछ और बयां कर रही होती…! साथ ही लिखा, कभी फुर्सत मिले तो बरसात के दिनों में इस प्रखंड के कुछ चुनिंदा गांव जैसे कि गोसाईं गांव पंचायत में दस्तक दीजिए तो जमीनी हकीकत से खुद रू ब रू हो जाइयेगा। इसमें कोई शक नहीं है आपके जिले का यह सबसे पिछड़ा प्रखंड है।

आदर्श अमन लिखते हैं, कितनी शर्म की बात है कि 1947 से 2021 तक ऐसी जगह है जहां कॉमन इंसान छोड़िए सरकार अपने कर्मियों को सुविधा पहुंचाने के लिए सड़क या बांध निर्माण नहीं कर पायी। कृपया ऐसी जगहों को चिह्नित कर रास्ते को सुगम बनायें। शेषनाग नामक ट्वीटर यूजर लिखते हैं, व्यवस्था कितनी जर्ज़र है…. कितनी शर्म की बात है.. और बात कर रहे है सम्मनित करेंगे। शाश्वत गौरव लिखते हैं, कृपया इस मामले में ध्यान दें और जितनी जल्दी संभव हो सड़क और पुल का निर्माण करायें। ताकि ऐसा दृश्य दुबारा नहीं देखना पड़े।.

राहुल मिश्रा लिखते हैं, ये गर्व की नहीं शर्म की बात है महोदय कि वहां पुल नहीं है जो पानी में उतर कर जाना पड़ा। आनंद कुमार सिंह लिखते हैं, घोसवारी प्रखंड अंतर्गत मोहनपुर ग्राम स्थित मध्य विद्यालय टीकाकरण केंद्र पर जीविका दीदी का मनोबल बढ़ाने के लिए पटना के डीएम चंद्रशेखर जी को धन्यवाद। सन्नी सिंह कहते हैं इनकी प्रशंसा तो होगी पर हमे शर्म आनी चाहिए कि हम एक रोड और पुल तक नही बनाते। वास्तव में शर्म आपको और सरकार को आनी चाहिए। संतोष शर्मा लिखते हैं, शर्म आनी चाहिए बिहार के सिस्टम को जो दिन-प्रतिदिन खोखली होती जा रही हैं, और इन्हें गर्व दिखाई दे रहा है।

जदयू नेता रामप्रवेश सिंह कहते हैं, प्रशंसा कम है। केपी पप्पू लिखते हैं काम कैसे लिया जाए आपसे अच्छा कोई नहीं जानता वह भी बड़े प्यार से। विक्रम सिंह कहते हैं, ये सराहना के लायक़ तो है लेकिन सरकार को शरम करनी चाहिए। आसु लिखते हैं, शर्म नहीं है आप लोगों में। रवि रंजन दत्त कहते हैं सच में बहुत ही सराहनीय कार्य कर रहे हैं। अजय कुमार कहते हैं वहां बरसात में सड़क की सुविधा नहीं है इसलिए भी एक प्रशस्ति पत्र आप सरकार को दें।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored