Header 300×250 Mobile

किसान आंदोलन की आड़ में सिंघु बॉर्डर पर दलित युवक की नृशंस हत्या

धर्मग्रंथ के कथित अपमान का आरोप लगाकर युवक के हाथ-पैर काटे, संयुक्त किसान मोर्चा ने पल्ला झाड़ा

- Sponsored -

505

- Sponsored -

- sponsored -

नयी दिल्ली (voice4bihar desk)। दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर 14 अक्टूबर की रात निहंगों ने किसान आंदोलन की आड़ में दलित सिख युवक की नृशंस तरीके से हत्या कर दी। धर्मग्रंथ के कथित अपमान की आड़ में निहंगों ने तालिबानी अंदाज में हत्या की इस वारदात को अंजाम दिया। सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में जो बोले सो निहाल सत् श्री अकाल का उद्घोष करते हुए निहंगों ने पहले तो युवक को बांध कर उसके साथ बुरी तरह मारपीट की।

इसके बाद उसकी बाएं हाथ की कलाई को काट कर अलग कर दिया। निहंगों ने उसके दाएं पैर को भी काट दिया। फिर काफी देर तक प्रताड़ित करने के बाद निहंगों ने उसे किसान आंदोलन के लिए बने मुख्य मंच के पास बैरिकेड से लटका कर मरने के लिए तड़पता छोड़ दिया।

मंच पर भिंडरावाला का पोस्टर खड़े कर रहा किसान आंदेलन की मंशा पर सवाल 

रात भर सैकड़ों लोग युवक को तड़पकर दम तोड़ता देखते रहे पर किसी ने इसकी सूचना पुलिस को नहीं दी। 15 अक्टूबर की सुबह घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची, तब तक युवक दम तोड़ चुका था। निहंगों की क्रूरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बैरिकेड पर युवक को लटकाने के दौरान उसके कटे हुए हाथ को भी कपड़े से बांध कर लटका दिया गया था।

मौके पर बने मंच पर खलिस्तानी नेता भिंडरावाला का पोस्टर किसान आंदेलन की मंशा पर भी सवाल खड़े करती है। निहंगों ने पूरी वारदात की वीडियो बनायी और उसे टुकड़ों में सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इस वीडियो में एक निहंग यह कहता हुआ दिख रहा है कि पहले भी कई बार लोगों ने धर्मग्रंथ का अपमान किया है। उन लोगों ने पकड़कर उसे पुलिस को सौंपा। पर पुलिस ने उसे छोड़ दिया। इसलिए अब वे ऐसे मामलों को पुलिस के पास नहीं ले जायेंगे बल्कि खुद सजा देंगे।

विज्ञापन

इधर, 15 अक्टूबर को खबर सामने आने के बाद पुलिस हरकत में आयी और मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। मृत युवक की पहचान पंजाब के तरनतारन जिले के सराय अमानत खान के गांव चीमा कला निवासी दर्शन सिंह के पुत्र लखबीर सिंह के रूप में की गयी है। पुलिस का कहना है कि लखबीर सिंह गांव में मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करता था। उसकी तीन बच्चियां हैं।

कथित किसान नेताओं के बहकावे में आकर वह पिछले कुछ दिनों से सिंघु बॉर्डर पर रह रहा था। बीती रात किसी बात को लेकर निहंगों ने धारदार हथियार से उसकी बाएं हाथ की कलाई काट दी और मारपीट कर जान ले ली। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। देर शाम तक इस मामले में निहंग सरबजीत सिंह सहित दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

इस बीच किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने बयान जारी कर कहा है कि उसके संज्ञान में आया है कि आज सुबह सिंघु मोर्चा पर पंजाब के लखबीर सिंह की अंग भंग कर हत्या कर दी गई। घटनास्थल के निहंग समूह ने घटना की जिम्मेवारी ली है और कहा है कि ऐसा उस व्यक्ति द्वारा धर्मग्रंथ की बेअदबी करने की कोशिश के कारण किया गया। खबर है कि मृतक उसी समूह के साथ पिछले कुछ समय से रह रहा था।

निहंग और मृतक से किसी प्रकार के संबंध से किसान मोर्चा ने किया इनकार

संयुक्त किसान मोर्चा इस नृशंस हत्या की निंदा करते हुए स्पष्ट कर देना चाहता है कि इस घटना के दोनों पक्षों, निहंग समूह और मृतक का संयुक्त किसान मोर्चा से कोई संबंध नहीं है। हम किसी भी धार्मिक ग्रंथ या प्रतीक की बेअदबी के खिलाफ हैं, लेकिन इस आधार पर किसी भी व्यक्ति या समूह को कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। हम मांग करते हैं कि इस हत्या और बेअदबी के षड़यंत्र के आरोप की जांच कर दोषियों को कानून के मुताबिक सजा दी जाए। संयुक्त किसान मोर्चा किसी भी कानून सम्मत कार्यवाही में पुलिस और प्रशासन का सहयोग करेगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT